Mumbai Port Website Mumbai Port Trust

Mumbai Port Trust

Back
  प्रोफ़ाइल
  परिचय
  स्थान और मुख्य विशेषताएँ
  पर्यावरण
  इतिहास
  हमारा लक्ष्य
  प्रबंधन
  संगठन ढाँचा
  नागरिक अधिकारपत्र
  कार्यसम्पादन
  परिणाम संरचना दस्तावेज़
   
Home/प्रोफ़ाइल/इतिहास
इतिहास
 

यद्यपि, भारत के पश्चिम तट पर स्थित मुंबई बंदरगाह तुलनात्मक दृष्टि से हमारे पास आधुनिक संरचना है, जिसका विशाल बंदरगाह इसके समृद्धि का मुख्य आधार है तथा शताब्दियों से सर्वोच्च स्थान बरकरार रखा है.  सत्रहवीं शताब्दी के आरंभिक दौर में हालांकि, मुंबई द्वीप का व्यापार नगण्य था. समुद्री आधार के रूप में, बंदरगाह की नैसर्गिक लाभकारी परिस्थितियों और भारत के पश्चिमी समुद्र तट पर नौवहन के लिए आश्रय स्थान महसूस किया गया और उसे अपने अधिकार में लेने के लिए काफी तिकडमबाजी हुई. वर्ष 1652 में ईस्ट इंडिया कंपनी की सूरत परिषद ने पोर्ट के भौगोलिक लाभों को समझते हुए इसे पुर्तगालियों से खरीदने का आग्रह किया.  उनकी इच्छा नौ वर्ष के बाद पूरी हुई जब ग्रेट ब्रिटन के चार्ल्स-II और पुर्तगाल की इन्फॅन्ट कॅथेरिन के बीच विवाह संधी के तहत पोर्ट और मुंबई द्वीप को ग्रेट ब्रिटन के राजा को हस्तांतरित किया गया.

 

........... अधिक जानकारी

टाईडस् ऑफ टाइम (मुंबई पोर्ट का इतिहास) एम.वी् कामत द्वारा लिखित
               




Mumbai Port Trust, India
Sitemap   |    Copyright Policy   |    Hyperlinking Policy   |    Terms and Conditions   |    Privacy Statement   |    Web Information Manager